Monday, March 03, 2014

Berozgar

बहुत दर्द है  इन  बाज़ुओं  में, 
एक  लम्बे  अर्से  का  भोज  उठा  रखा  है,
खामोशिओं  की  रंजीशो  में,
ये  सफ़र  दूर  तक  तेह  करने  का  दर्द  रखा  है.

ईमानदारी  का  असर  समझो ,
खोये  चैन  का  इलज़ाम  देखो ,
रोज़गारी  की  तलब  की  कशीश ,
के  लम्बे  अर्से  के  बेरोज़गारी का  दर्द  है,

बहुत  दर्द  है  इन  बाज़ुओं  में ,
दूर  तक  खाली  हाथ  उठा  रखा  है ,
खामोशिओं  की  रंजीशो  में ,
ये  सफ़र  दूर  तक  तेह  करने  का  दर्द   रखा  है .

थकावत  भी  बहुत  आँखों  में ,
डगमगाहत  है  कदमो  की  लैह  में .
चन्द  लम्हे  की  ख़ुशी  की  तलाश ,
से  पहले  की   हर  रोज़ा  का  दर्द  है .

बहुत  दर्द  है  इन  बाज़ुओं  में ,
एक  लम्बे  अर्से  का  भोज  उठा  रखा  है ,
खुशिओ  की  रंजीशो  में ,
ये  सफ़र  दूर  तक  तेह  करने  का  दर्द  रखा  है .

- गुलफाम